News Home » Asia » राज्यसभा चुनाव: अहमद पटेल ने किया जीत का दावा, गुजरात लाैटे 44 कांग्रेस MLAs

Around the World

राज्यसभा चुनाव: अहमद पटेल ने किया जीत का दावा, गुजरात लाैटे 44 कांग्रेस MLAs

Inbooker 30 Aug 7
  • राज्यसभा चुनाव: अहमद पटेल ने किया जीत का दावा, गुजरात लाैटे 44 कांग्रेस MLAs, national news in hindi, national news
    अहमद पटेल कल होने वाले राज्यसभा चुनाव में कांग्रेस के कैंडिडेट हैं। -फाइल
    अहमदाबाद.गुजरात राज्यसभा चुनाव से पहले कांग्रेस कैंडिडेट अहमद पटेल ने जीत का दावा किया है। उन्होंने कहा, ''हमारे पास 16 एक्स्ट्रा वोट हैं। मुझे अपने MLAs पर पूरा भरोसा है।'' पटेल ने NCP के सपोर्ट का भी दावा किया है। इसके पहले 44 कांग्रेस विधायक सोमवार तड़के अहमदाबाद पहुंच गए। उन्हें शहर से बाहर एक रिजॉर्ट में ठहराया गया है। पटेल का कहना है कि वो इन विधायकों के साथ निजीतौर पर मीटिंग करेंगे। खबर है कि इन्हें यहां से भी किसी और जगह शिफ्ट किया जा सकता है। गुजरात की तीन सीटों के लिए मंगलवार को वोट डाले जाएंगे। बता दें कि कांग्रेस ने फूट से बचने के लिए कुछ दिन पहले विधायकों को बेंगलुरु भेज दिया था, जहां वे कर्नाटक सरकार के मंत्री डीके शिवकुमार के रिजॉर्ट में ठहरे थे। पटेल बोले- नहीं जानता क्यों टारगेट पर हूं...
    - न्यूज एजेंसी से बातचीत में अहमद पटेल ने जीत का दावा किया है। उन्होंने कहा, ''हमारे पास 16 एक्स्ट्रा विधायक हैं। इसका मतलब ये हुआ कि वो (बीजेपी) इनकी खरीद-फरोख्त करना चाहते हैं। आप जानते हैं कौन लोग हैं? मुझे अपने MLAs पर पूरा भरोसा है। मैं नहीं जानता कि क्यों मुझे टारगेट किया जा रहा है।''
    - NCP के सपोर्ट पर उन्होंने कहा, ''मुझे मैसेज मिला है कि उन्होंने हमें सपोर्ट करने का एलान किया है और इसके लिए व्हिप भी जारी करेंगे।''
    - हालांकि, NCP नेता प्रफुल्ल पटेल कह चुके हैं, ''हम गुजरात में एनसीपी को एक अच्छा विकल्प बनाना चाहते हैं। 2012 के असेंबली इलेक्शन में हमने ईमानदारी से कांग्रेस के साथ चुनाव लड़ने की कोशिश की, लेकिन कांग्रेस ने आखिरी वक्त पर धोखा दिया। फिलहाल हम किसी के सहयोगी नहीं हैं। इसके लिए स्टेट कमेटी और पार्टी चीफ शरद पवार से बात करेंगे।'' बता दें कि गुजरात में एनसीपी की 2 सीटें हैं।
    एयरपोर्ट पर थी कड़ी सिक्युरिटी
    - न्यूज एजेंसी के मुताबिक, विधायक बेंगलुरु से आधी रात को रवाना हुए। सभी को एक बस से एयरपोर्ट ले जाया गया। इसके बाद उन्होंने अहमदाबाद के लिए उड़ान भरी।
    - अहमदाबाद में एयरपोर्ट पर कड़ी सिक्युरिटी लगाई गई। तड़के 4 बजे अहमद पटेल खुद विधायकों को रिसीव करने एयरपोर्ट पहुंचे। फिलहाल सभी विधायक अाणंद जिले के नीरजानंद रिजॉर्ट में ठहरे हुए हैं।
    - बीजेपी में कल होने वाले इस चुनाव के लिए व्हिप जारी कर दिया है। पार्टी ने अपने विधायकों के नोटा ऑप्शन का इस्तेमाल करने पर भी रोक लगा दी है। बता दें कि इससे पहले कांग्रेस भी नोटा के इस्तेमाल पर रोक लगा चुकी है।
    - बीजेपी ने दावा किया है कि टेक्निकली उसका व्हिप पार्टी के कथित बागी विधायक नलिन कोटडिया पर भी लागू होता है। बता दें कि काटडिया गुजरात परिवर्तन पार्टी के टिकट पर पिछला चुनाव जीते थे। अब इसका बीजेपी में विलय हो गया है। हालांकि, पिछले कई मौकों पर उन्होंने पार्टी के खिलाफ बयान दिए हैं।
    इलेक्शन में नोटा का होगा इस्तेमाल
    - इलेक्शन कमीशन के नोटिफिकेशन के मुताबिक, इस बार राज्यसभा इलेक्शन में बैलेट पेपर में NOTA ऑप्शन का इस्तेमाल होगा। कांग्रेस इसे हटवाने के लिए सुप्रीम कोर्ट पहुंची थी, लेकिन कोर्ट ने नोटिफिकेशन पर रोक लगाने से इनकार कर दिया।
    पटेल को जीत के लिए 45 वोट चाहिए
    - गुजरात की तीन सीटों पर वोटिंग होनी है। इसके लिए बीजेपी प्रेसिडेंट अमित शाह, केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी, सोनिया गांधी के एडवाइजर अहमद पटेल और कांग्रेस छोड़कर बीजेपी में आए बलवंत सिंह राजपूत ने नॉमिनेशन फाइल किया है।
    - एक सीट पर मुकाबला दिलचस्प है, क्योंकि राजपूत ने बीजेपी की तरफ से अहमद पटेल के खिलाफ नॉमिनेशन फाइल किया है। पटेल को जीत के लिए 45 वोट चाहिए, लेकिन कुछ विधायकों के इस्तीफे के बाद अब 51 कांग्रेस विधायक बचे हैं। वहीं, बीजेपी के 121 विधायक हैं।
    वाघेला बोले- पटेल अभी मेरे दोस्त - मंगलवार को होने वाले राज्यसभा चुनाव में किसे वोट दिया जाए इस पर कांग्रेस के पूर्व विधायक शंकर सिंह वाघेला ने चुप्पी साध ली है। हालांकि, उन्होंने कहा है कि अहमद पटेल अभी भी उनके 'दोस्त' हैं। - उन्होंने कहा, "हर वोटर अपने वोट का मालिक है। वोट MLA (राज्यसभा चुनाव के लिए) की प्रॉपर्टी है। इसलिए, मैं यह खुलासा नहीं करना चाहता कि मैं किसको वोट देने वाला हूं।" - बता दें कि वाघेला के लिए राज्यसभा का यह चुनाव बड़ा असमंजस भरा है। दरअसल, उन्हें रिश्तेदार और दोस्त में से किसी एक को वोट देना है। ऐसा इसलिए क्योंकि, हाल ही में कांग्रेस छोड़ बीजेपी में आए बलवंत सिंह राजपूत वाघेला के रिश्ते में समधी हैं, जबकि अहमद पटेल पिछले 25 सालों से वाघेला के दोस्त हैं।

    - बता दें कि वाघेला ने कांग्रेस से इस्तीफा दे दिया है। हालांकि, उन्होंने विधानसभा की मेंबरशिप से इस्तीफा नहीं दिया है, इसलिए वे वोट डाल सकते हैं।