Recommended Groups

Loading...

Group Info

  • Every day is Father's day Family & Home
  • Every day is Father's day
    • 343 total views
    • 18 total members
    • Last updated 17 June 2018

Every day is Father's day

Members

This group has 18 members.
  • Pradeep kumar Jain (Advocate) आप सभी को गुरु पूर्णिमा की हार्दिक शुभकामनाएं । जय श्री राम जय माँ भारती
  • Nalini Mishra (Advocate) गुरु पूर्णिमा की हार्दिक हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं जय श्री राम जय गुरु गोरक्षनाथ
  • Atrij Kasera Shooting report of upcoming serial "Mujhe Mary Kom Banana Hai" written by me.
  • Sanjeev Jain आज हमारे देश की पूरी रेलवे बंद पड़ी है मतलब इनकम शून्य । लेकिन कर्मचारियों को सैलरी पूरी दी जा रही है। हमारे देश में करोड़ों पेंशन धारी है जिन्हें पेंशन पूरी दी जा रही हैं । सरकारी रोडवेज की बसे बंद हे पर सेलरी दी जा रही है। सबकी कोरोना का इलाज और जांच मुफ्त हो रही है. गरीबों को राशन मुफ्त या कंट्रोल से कम दामों पर उपलब्ध कराया जा रहा है । सरकार के जितने भी इनकम सोर्स है अभी बंद हे टैक्स जो व्यपारी भरते है भी अभी लगभग बंद हे । उधर चीन और पाकिस्तान के साथ युद्ध के मोर्चे खुले हैं और उसकी तैयारी चल रही है, युद्ध हुआ तो पैसा क्या बहुत कुछ बलिदान करना पड़ेगा. एक समय था जब माँ-बहनों ने अपने गहनें बेच लड़ाई के लिए दान दिया था. आज की पीढ़ी को क्या हो गया है, देश के प्रति अपनी निष्ठा और कर्तव्य क्यों नहीं देख पा रहे ? पैसा कहां से आएगा ? सरकार ने पेट्रोल डीजल और पर अगर टैक्स बड़ा भी दिया तो कोई गलत काम नहीं किया अभी और आज के हालात देखते हुए माध्यम वर्गीय परिवार पर मुस्किल से परे महीने के पेट्रोल पर 500 से 1000 रू का अतिरिक्त खर्चा आएगा. हम चीखना और चिल्लाना शुरू कर देते हैं क्या केवल इसलिये कि पेट्रोल और डीजल के दामों पर मातम मनाना हमारी आदत हो चुकी है जिससे देशद्रोही, टुकड़े टुकड़े गैंग, भृष्ट राजनीति करनेवाले लोगों, दुष्प्रचार कर देश मे अराजकता व अशांति फैलाने वाले लोगों और उनके राजनीतिक एजेंडों को बल मिलता है ? अपने भारत पर अभी संकट है और हम लोग क्या इतना भी नहीं कर सकते हे कि समय की मांग देखते हुए देश का साथ दें ? पैसा कहां से आएगा ? गूंगे अर्थशास्त्री के शब्दों में कि पैसे पेड़ों पर नहीं उगते !!!
  • Sambhav Jain MI / SRH Kahani abhi baki hai
  • Pinky jain Mहे भगवान उन जीवित आत्माओं को इस वज्रपात को सहन करने की शक्ति देना जो दिन रात टिक-टाॅक पर मुजरा किया करते थे
  • ravindra jain !!! *उत्तम क्षमा*!!! जन्म से लेकर मोक्ष तक की इस अनंत यात्रा का अंत करने की पहली सीढ़ी क्षमा है तो आइये आप सभी से क्षमा याचना करके एवं सभी से क्षमा मांग कर इस मोक्ष सीढ़ी में पहला पग रखना चाहता हूँ| छोटा सा संसार , गलतियां अपार, आपके पास हे क्षमा का अधिकार, कर लीजिये स्वीकार *!!!उत्तम क्षमा!!!* मेरे पल पल , एक एक कण से मैंने किसी को निराश किया हो... तो ये मस्तक झुकाकर हाथ जोड दिल से इस पर्युषण पर्व पर आपसे *"उत्तम क्षमा"* सबको क्षमा सबसे क्षमा!! Ravindra Kumar Jain Reena Jain . Aayushi Jain. Harshit Jain. Samast Taksari parivar Etawah
  • Anupama Jain *आगोश में वो आए तो साँसें थम गई,* *एक चाँद बहक गया एक रात मचल गई।*
  • Meghanshu jain माना तुम्हे लगता है की यह असंभव है, तो कम से कम जो कोशिश कर रहा है, उसमे टाँग तो मत अड़ाओ।